आध्यात्मिक भजन: भक्ति सरोवर

  • प्रस्तावना
  • श्री अरहंत सदा मंगलमय
  • रोम रोम से निकले
  • धन्य धन्य जिनवाणी माता
  • है परम दिगम्बर मुद्रा जिनकी
  • अशरीरी सिद्ध भगवान
  • रोम रोम पुलकित हो जाये
  • पंच परम परमेष्टी देखे
  • धन्य धन्य वीतराग वाणी
  • मंगलाचरण
  • आओ जिनमंदिर में आओ
  • निरखो अंग अंग जिनवर के
  • अन्तर में आनन्द आयो
  • है वीर प्रभुजी हम पर
  • आओ आओ रे झानानंद की डगरिया
  • रोम रोम में नेमिकुंवर की
  • हे प्रभो चरणों में तेरे आ गये
  • शुद्धात्मा का श्रद्धान होगा
  • प्रभुजी अब नां भटकेंगे
संपर्क सूत्र:
पंडित अभय कुमार जैन दर्शनाचार्य
(विभिन्न ग्रंथों पर पंक्तिबद्ध प्रवचनों का लाभ लेने हेतु संपर्क करें)
Email: abhaypjain52@gmail.com
Mob.: 91-9420225393

संपूर्ण भक्ति सरोवर को एक साथ डाउनलोड करें
(Size: 58.9 mb)